Pages

Thursday, January 28, 2010

सोनिया गाँधी और ऑटो वाला -एक सैर

नमस्कार मित्रों ! मैंने पिछले पोस्ट में  अपने एक अनुभव  को आप सब के सामने रखा था !आज फिर अपने एक और अनुभव को  आप सबके सामने रख रहा हूँ !
२४ जनवरी की बात है, हम कुछ मित्र  NEW ZEALAND के प्रसिद्ध पूर्व क्रिकेटर ( कप्तान ) सर रिचर्ड हेडली से मिलने अशोका होटल में गए थे ! शाम को ६ बजे वहा से वापसी के लिए मैंने एक ऑटो लिया, मेरे साथ में मेरे बड़े भाईसाहब भी थे !वो किसी काम से दिल्ली आये हुए थे तो उनको भी लेके चला गया था ! ऑटो ड्राईवर एक अनुभवी अधिक आयु वाला व्यक्ति था और काफी मिलनसार भी !वो रस्ते में आने वाले सभी बड़े नेताओ ,मंत्रियो के घर दिखाता जा रहा था !जब हम लोग जनपथ पहुचे तो वो सोनिया गाँधी (१० जनपथ) और रामविलास पासवान (उनके पडोसी ) का बंगला दिखने लग गया ! वो भी महंगाई से त्रस्त था, इसीलिए महंगाई के लिया सोनिया जी को उल्टा सीधा बोलता भी जा रहा था !ऐसे ही उसने पासवान जी के बारे में भी कहा की वो हारने के बाद भी बंगला नहीं छोड़ रहा !उसने कहा की ये नेता , मंत्री लोग जनता के पैसे को खाते हैं और जनता बेचारी दाल रोटी को भी तरस कर रह गयी है ! मैं भी उसकी बातों में रस लेने लगा था ! अतः वो मुझसे आराम से बातें कर रहा था !
वैसे वो ऑटो मैंने केंद्रीय सचिवालय मेट्रो स्टेशन जाने के लिए पकड़ा था ! वहा से मुझे किसी से मिलने के लिए नई दिल्ली जाना था , लेकिन फिर मैंने उससे कहा की अब नई दिल्ली तक ले चलो ! हाँ,  तो  हम जनपथ रोड से गुजर  रहे थे, सामने रेड लाइट होने पर ऑटो रुक गया ! वहा ६ -७ शसस्त्र बलों के जवान खड़े अपनी ड्यूटी कर रहे थे , उनसे थोड़ी दूरी पर कुछ छोटे बच्चे और औरतों भी फुटपाथ पर बैठे हुए थे ! रेड लाइट पर वाहनों के रुकते ही वो बच्चे वाहनों की तरफ दौड़ पड़े !एक बच्चा  हमारे पास भी आया , उसके हाथ में लेड वाली दो पेंसिले थीं !पेंसिलों को उसने भैया के पैर पर रख दिया और १० रुपये मांगने लगा ! मैंने कहा की भाई नहीं चैहिये तो वो हाथ जोड कर बोलने लगा - ले लो बाबूजी  आपको दुआ मिलेगा , भगवान भला करेगा !हमारे मना  करने पर उसने पैर पकड़ लिए और जोर -२ से बोलने लगा -ले लो बाबूजी  आपको दुआ मिलेगा , भगवान भला करेगा !पेंसिल हमें लेनी नहीं थी पर मैंने  सोचा की कुछ पैसे दे दूँ , मैंने २ रुपये निकले और देने लगा तो उसने मना  कर दिया और कहा की ले लो -२, फिर ऑटो वाले ने जोर से डाटा तो वो २ रुपये लेकर चला गया !    बाद में ऑटो वाले ने कहा की क्यों दे दिए पैसे ,ये गरीब नहीं पेशेवर भिखारी है, आप इन्हें कहो की घर चल खाना खिलाऊंगा, कपडे दूंगा तो ये भाग जाते है ! ये सब दाउद के लोगो से पाले जाते है और इनकी जगह फिक्स होती है ,............. अगर मै या आप भीख मांगने आ जाये तो जान से मार दिए जायेंगे ! ......और ये सब मैडम सोनिया की नाक के निचे होता है !

मै उससे लगातार बात करता रहा , फिर मैंने उससे उसके बारें में पूछना शुरू किया ,  उसका नाम - लक्ष्मण सिंह  है और वो पिथौरागढ़ कुमाओं से है !       मैंने उसके ऑटो के बारे में पुचा तो उसने बताया की ये उसका अपना है और जल्द ही उसका परमिट ख़त्म होने वाला है !नई परमिट लेने के लिए ५ लाख की जरुरत है लेकिन दलाल के जरिये वो ये काम १.५ लाख में ही करा लेगा !    लेकिन देश के प्रधानमंत्री  और राष्ट्रपति को चलने वाली वो सोनिया भी इस काम को १.५ लाख में नहीं  करा सकती लेकिन मै करा सकता हूँ ! 
दोस्तों इस तरह वो हमेंबहुत साड़ी बातें बताता हुआ बिलकुल ठीक जहाँ हमें जाना था वाही छोड़  दिया  --- मुल्तानी धांधा पहाड़गंज ! मैंने पैसे देने के बाद उसे धन्यवाद दिया !फिर पूछा कहा रहते हो, बाकि पैसे लौटते हुए वो बोला - पटपडगंज ! मैंने अलविदा कहते हुए कहा की फिर मिलेंगे लेकिन वो अपना ऑटो मोड़ने में व्यस्त हो गया था !
दोस्तों वो शाम मुझे याद रहेगी !
फिलहाल इतना ही .......................................................अलविदा  

1 comment: